ऊब और दूब पढ़ें, आप अपनी लिपि में (Read uub aur doob in your own script)

Hindi Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam

Friday, March 6, 2009

कल एक कविता लिखूंगी

थके से दरवाजे
उबासी लेती हुई खिड़कियां
रात भर जागी
आंखों की तरह
बोझिल दीवारें।
रोज सोचती हूँ
कल एक कविता लिखूंगी।
लेकिन वो कल नहीं आता,
आता है केवल
नामविहीन
तारीखविहीन
एक दिन,
जिसमें होते हैं
सुबह, दोपहर और शाम।
और सुबह, दोपहर, शाम
कोई कविता नहीं होती,
हाँ, उम्र के बढ़ते सालों में
चुपके से
एक दिन और जुड़ जाता है।
बिस्तर पर लेट कर मैं
दरवाजे के खुलने
और बंद होने में
दिन महीने और सालों को
चुपचाप गुजरता हुआ देखती हूँ।
रोज सोचती हूँ
कल एक कविता लिखूंगी!
रोज सोचती हूँ
कल एक कविता लिखूंगी।

11 comments:

अनिल कान्त : said...

दिन महीने और सालों को
चुपचाप गुजरता हुआ देखती हूँ.....

सचमुच बहुत ही खोबसूरत तरीके से दिल की भावनाओं को लिखा है

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

PN Subramanian said...

यह जीवन ही कविता है. आभार.

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत बढ़िया रचना है वैसे कविता कल की बजाय आज ही लिख ली वाह क्या बात है . हा हा . अच्छा लिखती है .

प्रकाश बादल said...

वाह क्या कहनी बहुत ही बढ़िया कविता वाह!

Udan Tashtari said...

वल्लाह!! क्या बात है!!

विनय said...

बहुत अच्छी कविता लिखी, बहुत अच्छी!

संगीता पुरी said...

कल पढना था ... पर आज ही पढ लिया ... अच्‍छी लगी।

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" said...

हाँ, उम्र के बढ़ते सालों में
चुपके से
एक दिन और जुड़ जाता है।

बहुत सुब्दर अभिव्यक्ति है
- विजय

अनुराग अन्वेषी said...

दिन महीने और सालों को चुपचाप गुजरते हुए देखना वाकई बहुत बड़ी यातना होती है। इस यातना को जीना बहुत दुरुह है,उससे भी दुरुह है कि ऐसे पलों में से कोई अच्छी कविता चुरा ली जाये। एक जटिल स्थिति को सरलता के साथ रखती एक बहुत प्यारी कविता।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

कविता तो बीतते पलों के साथ साथ चलती रहती है ..कागज पर कब उतरे यह तो दिल की बात है ..सुन्दर लगी आपकी कविता

घुमक्कड़ said...

-kau aur ke man ki main na jaanu par tumannai meye man ki baat kad-dayi!
-chup!!! hamesha vahi apni dehati lagaye rahta hai.
-muaaf karna ji mera apna dusara aks hai pichhale dasiyon saal se mumabi,delhi jaisi jagahon par mere sath rahne ke baavjood apni dehati bhasha nahi bhool paya hai isaki taraf se main mafi maang leta hun.
isaka kahane ka aashay tha ki dusare ke man ki ise pata nahi par aapne isake man ki baat apni kavita mein kah di|